पुरुषों से कितनी कम सैलरी महिलाओं की है, डब्ल्यूईएफ का रिपोर्ट

पुरुषों से कितनी कम सैलरी महिलाओं की है, डब्ल्यूईएफ का रिपोर्ट

आइसलैंड में कानून बनाया गया है जिसके तहत महिलाओं को पुरुषों के बराबर वेतन देना होगा. दुनिया भर में वेतन के मामले में लैंगिक असमानता को देखते हुए यह कदम एक उम्मीद की किरण है. जानते हैं कहां कितना कमाती हैं महिलाएं
1. सबसे अच्छा, सबसे खराब
वर्ल्ड इकोनोमिक फोरम (डब्ल्यूईएफ) का कहना है कि आइसलैंड दुनिया में सबसे ज्यादा लैंगिक समानता वाला देश है. शिक्षा, स्वास्थ्य, आर्थिक अवसरों और राजनीतिक सशक्तिकरण के क्षेत्रों में मौजूद अंतर के विश्लेषण के आधार पर यह बात कही गई. दूसरी तरफ, यमन की स्थिति इस मामले में सबसे खराब है.
2. औसत कमाई
दुनिया भर में महिलाओं का सालाना औसत सैलरी 12 हजार डॉलर है जबकि पुरुषों का औसत वेतन 21 हजार डॉलर है. डब्ल्यूईएफ का कहना है कि वेतन के मामले में समानता कायम करने के लिए दुनिया को 217 वर्ष लगेंगे.

पुरुषों से कितनी कम सैलरी महिलाओं की है



3.समानता की कीमत
वेतन में अंतर को पाटने के लिए ब्रिटेन की जीडीपी में अतिरिक्त 250 अरब डॉलर, अमेरिका की डीजीपी में 1,750 अरब डॉलर और चीन की डीजीपी में 2.5 ट्रिलियन डॉलर डालने होंगे.
4. ब्रिटेन में सुधरी स्थिति
2017 के दौरान महिला और पुरुषों के बीच प्रति घंटा मेहनताने का अंतर 20 वर्ष के सबसे निचले स्तर पर पहुंच गया. सरकारी आकंड़ों के मुताबिक एक फुलटाइम पुरुष कर्मचारी ने महिला कर्मचारियों की तुलना में 9.1 प्रतिशत ज्यादा वेतन पाया.
5. टॉप देश
आर्थिक भागीदारी और अवसरों के मामले में जो देश टॉप पर है उनमें बुरुंडी, बारबाडोस, बहमास, बेनिन और बेलारूस शामिल हैं. डब्ल्यूईएफ के मुताबिक इन सभी देशों में महिला और पुरुषों के बीच आर्थिक अंतर 20 प्रतिशत से कम है.
6. यहां बदतर है हालात
इस मामले में जिन पांच देशों की स्थिति सबसे खराब है उनमें सीरिया, पाकिस्तान, सऊदी अरब, यमन और ईरान शामिल हैं. वहां आर्थिक लैंगिक अंतर कम से कम 65 प्रतिशत है.

पुरुषों से कितनी कम सैलरी महिलाओं की है


7. महिलाओं की भागीदारी
विश्व स्तर पर वरिष्ठ प्रबंधकीय पदों पर सिर्फ 22 प्रतिशत महिलाएं हैं. डब्ल्यूईएफ का कहना है कि आम तौर पर महिलाओं को कम सैलरी वाले पदों पर रखे जाने की संभावना ही ज्यादा होती है.
8. योग्यता की अनदेखी
डाटा से पता चलता है कि महिलाओं से उनकी योग्यता से कम दक्षता वाला काम लिया जाता है. इसकी वजह कई बार उनकी घरेलू जिम्मेदारियां होती हैं या फिर कई बार भेदभाव. इंजीनियरिंग और टेक्नोलॉजी से जुड़े क्षेत्र में महिलाएं कम होती हैं.
9. ईयू की स्थिति
यूरोपीय आयोग ने अंतर को कम करने के लिए नवंबर 2017 में एक दो वर्षीय योजना का प्रस्ताव रखा था. पिछले पांच साल के दौरान इस मामले में यूरोपीय संघ में कोई खास प्रगति नही हुई. यहां महिलाएं पुरुषों के मुकाबले प्रति घंटा 16.3 प्रतिशत कम कमाती हैं.
10. कंपनियों की निगरानी
इस प्रस्ताव में उन कंपनियों पर कुछ प्रतिबंध लगाने का प्रावधान है जो महिलाओं को पुरुषों के बराबर वेतन नहीं देती हैं. साथ ही इसमें यूरोपीय सबसे बड़ी कंपनियों की निगरानी करने के लिए भी कहा गया है.
पुरुषों से कितनी कम सैलरी महिलाओं की है

इसे भी देखें:- भारत में आईएएस अधिकारी कितना कमी है, हर राज्य में और कितना आईएस ऑफिसर हैl
इसे भी देखें:- रिवॉल्यूशनरी गार्ड ईरान की क्या है. जानिए इस के बारे में
इसे भी देखें:- भारत की वर्तमान समस्या सबसे बड़ी समस्या का हल निकालना होगा

इसे भी देखें:- दुनिया में सबसे खुशहाल देश कौन सा है। वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट 2017
इसे भी देखें:- list of celebrities richest 2017 ज्यदा कमाई वाले सेलिब्रिटीज रिपोर्ट
इसे भी देखें:- हर साल पुरी दुनियाँ में होती है इतनी मौत 5.6 करोड़ क्यों रिपोर्ट

About Shital RCS GYAN

दोस्तों Shital RCS GYAN के माद्यम से मेरी कोसिस है की आप लोगो तक Education से जुडी जानकारी पंहुचा सकूँ ताकि आप की इस वेबसाइट से हेल्प हो सकें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

घरेलू हिंसा

घरेलू हिंसा का शिकार हो रहें हैं बच्चे देखें इस रिपोर्ट में

घरेलू हिंसा का शिकार हो रहें हैं बच्चे देखें इस रिपोर्ट में घरों में होती पिटाई, घरों में दिया जाने वाला शारीरिक दंड, हिंसा का ...

Please wait...

Subscribe to our newsletter

Want to be notified when our article is published? Enter your email address and name below to be the first to know.