चीन की कम्युनिस्ट पार्टी का इतिहास जानिए

चीन की कम्युनिस्ट पार्टी का इतिहास जानिए

चीन की ताकत, आम तौर पर गोपनीयता के लबादे में लिपटी पार्टी कांग्रेस एक अहम आयोजन होता हैl चीन पर 68 साल से राज कर रही कम्युनिस्ट पार्टी ने कई उतार चढ़ाव देखे हैं, लेकिन इसकी ताकत में लगातार इजाफा होता रहा हैl पार्टी कांग्रेस में क्या क्या होता है, इसकी पक्की जानकारी आज भी मिल पाना मुश्किल हैl

पहली कांग्रेस, कांग्रेस 1921 में बेहद गोपनीय तरीके से शंघाई के आसपास हुई थीl इसी कांग्रेस में औपचारिक तौर पर चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के लक्ष्य और चार्टर को तैयार किया गया थाl इस कांग्रेस में कम्युनिस्ट नेता माओ त्सेतुंग भी मौजूद थे, हालांकि उस वक्त वह बहुत युवा थेl

जब माओ बने नेता, पार्टी की सांतवी कांग्रेस 1945 में उस समय बुलायी गयी जब चीन-जापान युद्ध खत्म होने ही वाला थाl शांक्शी प्रांत में कम्युनिस्ट पार्टी के गढ़ यानान में यह बैठक हुई जिसमें माओ सुप्रीम लीडर के तौर पर उभरेl इसी कांग्रेस में माओ के “विचारों” को पार्टी की विचारधारा का आधार बनाया गयाl
चीन की कम्युनिस्ट पार्टी



चीन की कम्युनिस्ट पार्टी
सांस्कृतिक क्रांति का दौर, पार्टी की नौवीं कांग्रेस 1969 में हुई. यह वह दौर था जब चीन में सांस्कृतिक क्रांति अपने चरम पर थीl सत्ता पर अपनी पकड़ को मजबूत करने के लिए माओ ने इस क्रांति का इस्तेमाल किया जिससे देश में दस साल तक भारी अव्यवस्था रही और लगभग गृह युद्ध जैसे हालात हो गये थेl

चीनी चरित्र वाला समाजवाद, 1982 में 12वीं कांग्रेस में चीनी नेता तंग शियाओफिंग ने “चीनी चरित्र वाले समाजवाद” का प्रस्ताव रखा, जिससे चीन में आर्थिक सुधारों का रास्ता तैयार हुआ और देश विशुद्ध कम्युनिस्ट विचारधारा से पूंजीवाद की तरफ बढ़ाl यही वजह है कि आज चीन की चकाचौंध सबको हैरान करती हैl

पूंजीपतियों को जगह, 2002 में पार्टी की 16वीं कांग्रेस हुई जिसमें औपचारिक रूप से निजी उद्यमियों को पार्टी का सदस्य बनने की अनुमति दी गयीl यह अहम घटनाक्रम था क्योंकि आर्थिक सुधारों की बातें चीन में 1970 के दशक के आखिरी सालों में ही शुरू हो गयी थीं लेकिन पूंजीपतियों को लेकर फिर भी पार्टी में लोगों की त्यौरियां चढ़ी रहती थींl

अचानक उदय, 2007 में हुई 17वीं पार्टी कांग्रेस शी जिनपिंग और ली कचियांग को सीधे नौ सदस्यों वाली पोलित ब्यूरो की एलिट स्थायी समिति का सदस्य बनाया गया जबकि उस समय वह पार्टी के 25 सदस्यों वाले पोलित ब्यूरो के सदस्य नहीं थेl इस तरह ये दोनों नेताओं की पांचवी पीढ़ी के सितारे बन गयेl
चीन की कम्युनिस्ट पार्टी



चीन की कम्युनिस्ट पार्टी
नाम में क्या रखा है, शी से पहले चीन के दो राष्ट्रपतियों हू जिनताओ और जियांग जेमिन ने 2002 और 2007 की पार्टी कांग्रेस के दौरान अपने विचारों को चीन के संविधान का हिस्सा बनाया, लेकिन सीधे सीधे अपने नाम का उल्लेख नहीं करायाl वहीं इससे पहले माओ और तंग के नाम भी आपको संविधान में दिखेंगेl

इसे भी देखें:- तीर्थ यात्रा करने के लिए फ्री में पैसा सरकार देति हैl
इसे भी देखें:- भारत के प्रसिद्ध नेता जेल के खीचरी खाने वाले ये सभी हैं
इसे भी देखें:- भारत में हुआ अब तक का महाघोटाला सूची बिस्तार से

इसे भी देखें:- साप्ताहिक करेंट अफेयर्स जनवरी तीसरा सप्ताह करंट अफेयर्स 2018 हिंदी में
इसे भी देखें:- SSC CHSL Tier 1 दोपहर की पाली 17 January 2017 General Awareness Solved Paper

इसे भी देखें:- भारतीय राजव्यवस्था CH-4 संविधान की विशेषताएँ से पुछे जाने वाले महत्वपूर्ण सवाल P-1
इसे भी देखें:- रेलवे परीक्षा की तैयारी कैसे करे बिना कोचिंग के विडियो

About Shital RCS GYAN

दोस्तों Shital RCS GYAN के माद्यम से मेरी कोसिस है की आप लोगो तक Education से जुडी जानकारी पंहुचा सकूँ ताकि आप की इस वेबसाइट से हेल्प हो सकें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

x

Check Also

नोट बंदी क्या है विमुद्रीकरण क्या है

दुनियाँ के इन सभी देशों में अब तक नोट बंदी हो चुकीं हैंl विमुद्रीकरण क्या है

नोट बंदी क्या है नोट बंदी क्या है नोट बंदी क्या है नोट बंदी क्या है नोट बंदी क्या है नोट बंदी क्या है नोट ...